क्षणिकाएँ- आदर्श भूषण's image
294K

क्षणिकाएँ- आदर्श भूषण

१. स्त्रियों के जितने

पर्यायवाची

तुम व्याकरण की

किताब में ढूँढते रहे;

एक पर्याय

तुम्हारे घर के कोने में

अश्रुत क्रन्दन और 

व्यथित महत्वाकांक्षाओं

के बीच

पड़ा रहा।


२. इस शहर की

परतों से

डर लगता है मुझे;

बाहरी परत पर

रौनक़ का शामियाना

लगा है;

अंदर की गलियों में

मुफ़लिसी की क़बायें हैं

फुटपाथ पर चलता आदमी

पूछता है मुझसे-

“कहाँ से आए हो बाबू!”

“जाना किधर है?"


३. मैं छोटे शहर का आदमी हूँ

अपना घर छोड़कर

जून कमाने

तुम्हारे शहर

तब तक आता रह

Read More! Earn More! Learn More!