तमाशा's image
Share0 Bookmarks 42399 Reads0 Likes

तुम इतने नासमझ तो नहीं,

कि इतने अरसे बाद भी मुझे समझ न सको,

या समझ चुके हो तुम,

फ़िर भी नासमझी का तमाशा करते हो।


तुम्हें पता है कि ये मगरूरी नामंजूर है मुझको,

लिए फ़िरते हो तुम आँखों में गुरुर-ए-समुन्दर को, किस बात का गुमां है,

किस बात का सुरूर,

किस बात पे यूं नाज़

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts